शुक्रवार, 4 मार्च 2016

मधुमेह का आयुर्वेदिक इलाज

विजयसार नाम से एक लकड़ी है ये हमारे भारत में मध्य प्रदेश से लेकर पूरे दक्षिण भारत मे पाया जाता है। इसकी लकड़ी का रंग हल्का लाल रंग से गहरे लाल रंग का होता है। यह दवा मधुमेह रोगियों के लिये तो प्रभावी है।

विजयसार को ना केवल आयुर्वेद बल्कि आधुनिक चिकित्सा विज्ञान भी डायबिटीज में बहुत उपयोगी मानता है इसके लिए विजयसार की लकड़ी से बने गिलास में रात में पानी भर कर रख दिया जाता है सुबह भूखे पेट इस पानी को पी लिया जाता है विजयसार की लकड़ी में पाये जाने वाले तत्व रक्त में इन्सुलिन के स्राव को बढ़ाने में सहायता करते हैं .

विजयसार की लकड़ी के टुकड़े बाजार से ले आए, जिसमे घुन ना लगा हो। इसे सूखे कपड़े से साफ कर ले। अगर टुकड़े बड़े है तो उन्हे तोड़ कर छोटे- छोटे- 1/4 -1/2 सेंटीमीटर या और भी छोटे टुकड़े बना ले।फिर आप एक मिट्टी का बर्तन ले और इस लकड़ी के छोटे छोटे टुकड़े लगभग पच्चीस ग्राम रात को दो कप या एक गिलास पानी में डाल दे । सुबह तक पानी का रंग लाल गहरा हो जाएगा ये पानी आप खाली पेट छानकर पी ले और दुबारा आप उसी लकड़ी को उतने ही पानी में डाल दे शाम को इस पानी को उबाल कर छान ले। फिर इसे ठंडा होने पर पी ले।
इसकी मात्रा रोग के अनुसार घटा या बढ़ा भी सकते है अगर आप अग्रेजी दवा का प्रयोग कर रहे है तो एक दम न बंद करे बस धीरे -धीरे कम करते जाए अगर आप इंस्युलीन के इंजेक्शन प्रयोग करते है वह 1 सप्ताह बाद इंजेक्शन की मात्रा कम कर दे। हर सप्ताह मे इंस्युलीन की मात्रा 2-3 यूनिट कम कर दे। विजयसार की लकड़ी में पाये जाने वाले तत्व रक्त में इन्सुलिन के स्राव को बढ़ाने में सहायता करते हैं l

औषधीय गुण :
– मधुमेह को नियन्त्रित करने में सहायता करता है।
– उच्च रक्त-चाप को नियन्त्रित करने में सहायता करता है।
– अम्ल-पित्त में भी लाभ देता है।
– जोडों के दर्द में लाभ देता है।
– हाथ-पैरों के कम्पन में भी बहुत लाभदायक है।
– शरीर में बधी हुई चर्बी को कम करके, वजन और मोटापे को भी कम करने में सहायक है।
– त्वचा के कई रोगों, जैसे खाज-खुजली, बार-2 फोडे-फिंसी होते हों, उनमें भी लाभ देता है।
– प्रमेह (धातु रोग) में भी अचूक है।
– इसके नियमित सेवन से जोड़ों की कड़- कड़ बंद होती है . अस्थियाँ मजबूत होती है .

मधुमेह के  आयुर्वेदिक इलाज संबंधी आधिक जानकारिकेलिए पढें - Ebook - Ayurvedic Cure of Diabetes

15 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

Shilajit capsules are very effective natural herbal remedies for diabeties which maintains the blood sugar level naturally. Shilajit capsule contains fulvic acid and humic acid which successfully eradicated the free radical damage to pancreas islet b-cells that is the leading cause of diabeties.

Unknown ने कहा…

Thanks for sharing such great informative post, it is really helpful for me.
Rehab Centers in Mumbai || rehabilitation centers in mumbai || de addiction centers in mumbai

Unknown ने कहा…

Sugar Daibaties Ka ilaj, शुगर डायबिटीज को नियंत्रित करने के घरेलू उपाय शुगर डायबिटीज की दवा बहुत सस्ती और घरमे ही उपचार

Unknown ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
Unknown ने कहा…

Diabetes Treatment In Hindi शुगर की बीमारी का इलाज

Unknown ने कहा…

पढ़ें हेल्थ टिप्स हिंदी गाइड, बहुत ही सरल भाषा में घरेलू नुस्खों द्वारा सभी रोगों का समाधानं इसमें मिलेगा Health Tips in Hindi

Branding Strategy ने कहा…

Thanks for sharing this article. Yes, diabetes can be effectively cured by Ayurveda. Ayurvedic doctors in Mumbai have successfully cured many a cases of diabetes.

Unknown ने कहा…

Hashmi Herbo diabecon capsule bhi best hai.

navchetana-kendra ने कहा…

Great information...
Thanks for Sharing..
Natural Extract Manufacturer, Herbal Extract Manufacturer, Fruit Extract Manufacturer, Ayurvedic & Herbal Extracts


Unknown ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
Shivam Panchal ने कहा…

बहुत ही अच्छा पोस्ट है ।

Unknown ने कहा…

It is worth to consider taking herbo diabecon capsule for diabetes treatment.

Unknown ने कहा…

Nice post! Really nowadays many people switching to ayurveda and buying ayurvedic medicine as per https://www.bestveda.com karela and jambun capsule are very helpful for diabetes

Miric Biotech ने कहा…

If you facing any lifestyle problem that related to you health
Then miric biotech remedies are for you here

To know more click :-
Miric Biotech Limited

Miric Biotech Limited

Miric Biotech Limited

Unknown ने कहा…

Very useful post. Diabetes herbal supplement targets the root cause of the disease rather than symptoms.