शुक्रवार, 22 जनवरी 2016

​​“अनिमिया ​​ ​और कुपोषण मुक्त भारत​”  ​​​लोक आंदोलन

हम, भारत् में आज सर्वाधिक लोग अशक्त और अनिमिआसे ग्रस्त है. आओ इसे बदले.

महाभारत​के ​ पांड​वोंके ​​ माता पिता  पांडू और कुंती    ---
​महाभारत​के ​ पांड​वोंके ​​ पिता   ​ सफेद थे. उनमे   रक्त​की ​ कमी​​ थी. उन्हे  पांडुरोग ​था. इसीलिये  उनका नाम  पांडु ​ था. आज भारत​मे  ​सर्वा​धिक  लो​गोंको   ​यही बिमारी है. ।​ ​सर्वा​धिक  लो​ग ​ पांडु है. ​ सरकार ​इसे घटानेके लिये  1970 ​से  विशेष कार्यक्रम ​चालती है।  स​ब डॉक्टर ​सबको इलाज करते है.फिरभी  आज सर्वाधिक लोगोंको  यह बिमारी है. 5 ​मे से ३,४   भारती​योंको ​ ​यह बिमारी है.। इसके कारण हम अशक्त है.अल्पायुषी है. ​और हमे यह मालूम नहिं. ​मालूम नहिं ​यह ​भी ​मालूम नहिं. आओ इसे जाने और  सबको बताये. यह पुण्यका काम है. ​यह सर्वोत्तम  देशसेवा, लोकसेवा ​है ।​  ​हिमोग्लोबिन​ से खून लाल होता है.  उसकी ​ की कमी को  ​, पांडुरोग,​ रक्त अल्पता ​​ कहते है.  ​1 ग्राम ​​​​हिमोग्लोबिन ​यह 1 ग्राम प्रथिन​,​ ​और बिलकुल  थोडे लोह,व फॉलिक एसिड ​और  बी 12 ​, इन दो  ​​जीवन स​त्वोंसे बनता  है. काफी लोगोंमे इन  चारो चीजोंका  अभाव है.ये कहानीयां  पढिये और  देशको अनिमिया मुक्त किजिये.
​कहानी
 लोह निशा​की. उसके जुबान से​​:---

 निशा ​दीदी  सरकारी ​डिप्लोमाधारी परिचारिका ​है. निशा​ कहती है,,"​ मेरे बदनमे  खून कम था. हिमोग्लोवीन ९ ग्राम ​था.  डॉक्टर​ने लोह​ की गोली दी.    मुझे जुलाब ​लगे.​मैने गोली बंद ​दी.​लोहे की कढाई मे  खाना बनाना शुरू किया.मै  ठीक हो गई. मेरा खून बढा. इसके बाद मैने ३ ​बार  रक्त दान  ​किया. अब  मेरा  हिमोग्लोबिन १३ ​ ग्राम है.​ ​अच्छा है.​
सीख १. ​हम सबने लोहेकी कढाई में खाना पकाना चाहिये. ​

वंदना सरकार नागपूर की कहानी

 मेरे पतीको केंसर [कर्करोग] है. वे उसकी दवा खाते ही. उनका खून घटता है. हम हर बार उन्हे  २ बोतल खून देते है. निशासे सिख कर मैने लोहे की कढाई मी खान बनाना शुरू किया.अब  उनका हिमोग्लोबिन ९ से १३ हो गया है. मै सबको संक्रांतीमे लोहे की कढाई भेट दुंगी.

माधुरी ताई प्रवीण राउत, बंबई, ने इस संक्रांती को सबको लोहेकी  कडाई देनेका तय किया है.

​​डॉ. रमेश चेलन ​का  ​अभ्यास ​​प्रसिद्ध​ ​​है.कि ​९७% ​ बच्चे और माताओमे ​लोह​  की ​ कमी ​है .  अनिमिआ ​है. पुरुशोंमे भी ऐसा ही  होगा.
लोह कमी के   दुष्परिणाम ​ऐसे है.१. गर्भपात, ​होना २.  छो​टे , मंद बुद्धी ​बच्चे  होना.3 शिक्षण क्षमता ​​कम ​होना. कार्य क्षमता ​​कम हो​ती  है.५. हिमोग्लोबिन ​​कम हो​ता   है. ​इसे हम  अनिमिआ ​कहते है.  १ ग्राम हिमोग्लोबिन कम​ होनेपर ​२% कार्य क्षमता घट​ती ​है.आओ हम इसे  २०१६ ​मे  बदलेङ्गे. यह जानकारी सब को  देकर.
1 ग्राम हिमोग्लोबिन ​यह  1 ग्राम प्रथिन​ और बिलकुल  थो​डी   मात्रामे लोह,​ और   फॉलिक एसिड व बी 12 ​इन दो  जीव​न  ​सत्वोंसे   बन​ता  है.  ​काफी लोगोंमे इन सबका अभाव है.
​क्या मुझमे इन का अभाव है ? कैसे जाने? मुठ्ठी बंद करो. अब अपनी हाथ की  उंगलीओंके जोडोंको देखो.
ये अगर काले  है,, तो हममे फोलिक एसिड  और बी १२ का अभाव है. उन्हे लेनेपर काला रंग  चल जाता है. हमारा गया.    फॉलिक एसिड :​ यह पता सब्जी और फलोंसे  मिलता है. ​उसे  काम करते समय, या समय मिलने  पर दिनभर खाइयॆ. लाभ होगा. एक करमचंद जासूस हरदम गजर खात था. उसी तरह. ​हमे  रोज 1 मिलिग्रॅम फॉलीक एसिड ​लागता है. 5 मिलीग्रॅम ​की  गो​ली  औषधी दुकान​मे ​ मिल​ती  है.।​१ गो​ली   बाट कर घरके सब लोग रोज ​ले. ​​का​ले दाग जाने  तक ले.
बी 12 जीवनसत्व:
दुध​मे  ​बी 12 ​है.​दहीमे दुधसे  ज्यादा बी 12 ​है.
सब दुध का दही बनाइये. और  खाइये.   संसारमे सर्वाधिक भारत दुध मे होता है.
 बी 12 सिर्फ  फक्त मांसाहार​से ​ मि​लता है। शाकाहारी ​और हफ्तेमे १ बार  मांसाहार ​करनेवाले लोगोंमे  बी 12 ​का  अभाव  ​होता है. इससे दिमाग और   नर्वज (नाडी, माजातंतू) ​को तकलीफ  होती है.  ​पैरमे  गोले आना , दिमागने   काम कम करना   ​​आदी दिमाग की कोई भी तकलीफ हो तो बी १२ लेकर देखिये. लाभ हो सकताहै. मिथाइल कोबाल अमीन ​नामसे लिजिये। 1000 मायक्रो ग्राम ​का  इंजेक्शन ​लिजिये.  ​हर हफ्ता एक  ऐसा  4 ​हफ्ता लिजिये. या ​ ​​उन्गलीके का​ले दाग जाने  तक लिजिये. परदेश​ मे  रहने वाले खूप भारतीय​ लोगोंको उनके  ​ डॉक्टर ​ये  इंजेक्शन ​हर  6 महि​नेमे  एक बार देते है.
लोह, फॉलिक एसिड, बी 12 ​लेकर र्भी , प्रथिन​ ​कम​ ​​होनेके कारण  अशक्त लो​गोन्मे  हिमोग्लोबिन ​ज्यादा बढता नही. रोज ​अनाज कम पडनेसे बच्चे और लोग  ​दुबले  अशक्त हो​ते है. 1 ग्राम हिमोग्लोबिन ब​नेको  1 ग्राम प्रथिन लगता​ है. ​। ​​दुबले  अशक्त​ लोगोंको रोज खानेमे  25 % तक प्रथिन​ [प्रोटीन्स] ​कम पड​ते है. इलाज: ​दुबले  अशक्त​ लोगोंको जेबमे   24 ​घंटा चना , मुंग फल्ली भरकर रखिये.

घरमे एक कोनेमे  चना , मुंग फल्ली, गाजर आदी हरदम भरकर रखिये. दुबले  अशक्त​ लोगोंने उसे दिनभर खाना चाहिये.
उन्हे ज्यादा प्रथिन मिलेंगे.  वे  सशक्त ​बनेङ्गे. खून भी बढेगा . ​चना , मुंग फल्ली ​ना हो तो जो चीज घरमे है उसे दिजिये.  ​​कच्चा चना दाल  दिजिये. सब पचता  है ।महाराष्ट्र मे  सरकार, हमारी सलाह के अनुसार, सबको  एक कोनेमे  चना , मुंग फल्ली, रखनेको कहती है. इससे  महाराष्ट्रातील कमजोर बच्चोंका प्रमाण घटा है.  भारतके  बडे राज्योंके तुलनामे महाराष्ट्रमें कमजोर बच्चोंका प्रमाण अब सबसे कम है.
सावधान: ​बच्चोंको  दूध ​ना दे. दुधमे लोह  ​नही के बराबर है.  दूध ​दुसरे अन्न के लोह को भी खा लेता है. अमेरि​कामे पहले साल बच्चेको दुध देना  मना है. ​ ​​
​यह  लो​गोन्का लोगोन्के लिये ,  अनिमिआ मुक्ती ​आंदोलन है. 

4 टिप्‍पणियां:

Dr. Hemant Joshi ने कहा…

बधाई
डॉ हेमंत जोशी

Dr. Hemant Joshi ने कहा…

बधाई
डॉ हेमंत जोशी

Miric Biotech ने कहा…

Miric Biotech Ltd offers many useful Ayurveda beauty and health products for men & women. MIR-X Obesity is one of the best product quickly decrease health problem and increase quality life.

Read more: http://www.miricbiotech.com/mir-x-obesity.php

Mirik Healthfoods ने कहा…

I found your blog. This is a good written article. Mirik Health Foods will be sure to bookmark it and come back to read more of your useful information. Thanks for the post. I will certainly return.